खून पसीने की कहानी

एक दोपहर

पसीने से लथपथ

रिक्शे पर सवार

तीन दोस्त जा रहे थे सिनेमा देखने

चुन्नीगंज की ढलान के बाद चढ़ाई आई

उठा न पाया रिक्शेवाला तीन दोस्तों का भार

गिर पड़ा बीच सड़क पर

पसीना लहू-लुहान हुआ

जेन-तेन-प्रकारेण सिनेमा हॉल पहुंचे

ठन्डे कमरे में बैठकर कौन याद रखता है

रिक्शेवाले की कहानी

किसे फ़िक़र, कहीं ढो रहा होगा

किसी और का भार

ठन्डे कमरे में बैठकर विज्ञापन भी अच्छे लगते हैं

पिक्चर चल रही थी, पसीना सूख रहा था

थोड़ी देर बाद, फिल्म में दिखा, शम्भू रिक्शेवाला

अमानुषों की तरह चला रहा था रिक्शा

चंद पैसों के लिये

उसका पसीना बह रहा था खून की तरह

समझ में आई दोस्तों को दो बीघा जमीन की ब्यथा

न चुकाने होते शम्भू को चंद रुपयों का क़र्ज़

उसका पसीना खून बनकर न बहता

शम्भू के पसीने ने बेचैन किया दोस्तों को

एक ने दूसरे से कहा

घर लौटते वक़्त पैदल घर जायेंगे

फिर लगा, अगर पैदल घर जायेंगे

तो शम्भू कैसे चुकायेगा क़र्ज़

यह सोचकर, दोस्तों ने फैसला किया

इस बार, एक नहीं, दो रिक्शे लेकर घर जायेंगे

उन्हें लगा, श्रम के उचित मूल्य में

छिपी होती है खून पसीने की सार्थकता


Story of blood and sweat


One afternoon, in the month of June

Three friends were going to watch a film

Sweat soaked was the Rickshaw ride

At the Chuniganj slope, the Rickshawala

Could not bear the weight of three friends

He fell on the middle of the road

Blood soaked sweat was flowing all around

Somehow, they reached the Cinema Hall

After entering the cinema hall

Sitting in a cold room

Who remembers the story of a Rickshawala

Who cares, if he is carrying somewhere

Someone else's load

After the ads, the film started

The sweat was drying

After a while, the friends saw

Shambhu Rickshawala, in the film

Pulling rickshaw like a mad man

For a little money

He too was sweating blood

Had he not taken a loan of few rupees

In exchange of Do Bigha Zameen

He did not have to shed blood tears

Shambhu's blood tears made the friends restless

One told the other, while returning home

They will go home on foot

Then a thought arose

If they go home, on foot

How then Shambhu will repay the loan

They then decided, this time they will take

Not one but two rickshaws to go home

They felt, in the fair price of labour is hidden

The real value of sweat and blood

Purnendu Ghosh Executive Director, Birla Institute of Scientific Research, JaipurVice President, Indian National Academy of Engineering www.profpghosh.com www.bisr.res.in www.inae.in