एकला चोलो रे

जब सुख-दुःख साझा करने को न हो अपना कोई

जब चढ़ाई पार करने वाला न हो साथ कोई

जब कोई अनुभव न हो अभिव्यक्ति लायक

जब साझा करने लायक न हो कोई कल्पना

जब न हो कोई नेतृत्व प्रदान करने वाला

जब न हो कोई अनुसरण करनेवाला

समझो समय आ गया है अकेले चलने का

अपनी छाया के साथ

  • White Facebook Icon
  • White Twitter Icon

© 2017 by Dr Purnendu Ghosh