प्रवृत्ति

पत्थर डूब जाता है, लकड़ी तैरती है एक गुरुत्वाकर्षण के सहारे डूबने को तत्पर दूसरी उत्तोलन के भरोसे तैरने को उत्सुक वस्तु की गुण बन जाती है व्यवहार कपटी ढूंढ लेता है कपट और ज्ञानी ज्ञान जुड़ते हैं हम उससे, प्रवृत्ति सम जिससे