स्याही कलम

पिछले सप्ताह की बात है मुझे लगा मुझे स्याही कलम चाहिए फ़ौरन मेरे लिए उपलब्ध कराया गया साथ में न सूखनेवाली स्याही कहने की बात नहीं मैं खुश था भूलने की आदत सी पड़ती जा रही है इस रविवार कुछ खोये दस्तावेजों का पता लगाने का मुहूरत निकला यह दराज वो दराज आखिरकार मिले खोये दस्तावेज साथ में मिला स्याही कलम से भरा एक डब्बा तरह तरह के कलम लेकिन स्याही का नहीं अता -पता मानो इंतज़ार कर रहे थे खोज करने वाले का उनमे स्याही भरने के लिए कब तक बंद रहें बिन काम-काज के अब मेरे पास पांच स्याही कलम हैं हर एक में स्याही भरी रहती है हर रोज़ उनमे से एक कलम उठाता हूँ और ऑफिस चल देता हूँ आज सवेरे जब मैंने एक कलम उठाया ऐसा लगा जैसे मैं किसी देश का राजा हूँ मेरी पांच पत्नियां हैं हर पत्नी को लगता है आज मैं उठायी जाउंगी नउठाई पत्नियों की दशा सोच मुझे दुःख हुआ मुझे दुःख हुआ नउठाई स्याही कलमों की दशा सोच

  • White Facebook Icon
  • White Twitter Icon

© 2017 by Dr Purnendu Ghosh