आग

यह कहानी है समय की समय समय पर दोहरा रही है समय अपने आपको पिछली कई शताब्दियों से यह कहानी है दीये की और तूफ़ान की यह कहानी है निरबल की और बलवान की यह कहानी है हवा के झोंके की जो मोमबत्ती तो बुझा देती है लेकिन बढ़ा देती है लौ आग की आग बनना चाहते हो, या तेज हवा की कामना करते हो मोमबत्ती की तरह बुझना चाहते हो तो रोक नहीं सकता कोई तुम्हे मत सोचो, तेज हवा चल रही है आग बनो बुझाने आग को हवा को धीमे चलना पड़ता है समय आने पर बुझना पड़ता है हर आग को

  • White Facebook Icon
  • White Twitter Icon

© 2017 by Dr Purnendu Ghosh