कानपुर एफेक्ट

आर्यनगर का चौराहा, बृजेन्द्र सरूप पारक शिशु शिक्षा सदन, बी ऐन एस डी एच बी टी आई लाल इमली, ग्रीन पार्क दही -जलेबी, आलू की टिकिया ढाई कोष वाली चाय ननकू के पान विवेक , निगार, सुन्दर टॉकीज़ छै आने वाली फिल्में क्या क्या याद करुँ जब झांकता हूँ अपने ठिकाने की ओर दिखते हैं अपने, खुश हो जाता हूँ अपने जब मिलते हैं , ख़ुशी मिलती है लगता है अपने साथ हैं मेरे बचपन कहीं गया नहीं मेरी बेटी ने मेरी इस ख़ुशी का एक नाम दिया है , कानपुर एफेक्ट